थाईलैंड में विदेशी छात्रों के लिए वीजा नियमों में बदलाव पर जोर

बैंकाक। थाईलैंड में विदेशी छात्रों व शिक्षकों को आकर्षित करने के लिए वीजा नियमों में संसोधन की मांग उठने लगी है। पिछले महीने प्रायवेट एजुकेशन कमीशन के प्रतिनिधियों ने  एशियन इकनॉमिक कम्युनिटी (एईसी) लांच होने के बाद देश में विदेशी छात्रों की संख्या में वृद्धि की उम्मीद जतायी थी। लेकिन इस दिशा में फिलहाल कोई बड़ी पहल नहीं हुई है।

थाईलैंड के शिक्षाविद विदेशी छात्रों की वर्तमान संख्या से बहुत ज्यादा संतुष्ट नहीं है। थाईलैंड की काउंसिल ऑफ यूनिवर्सिटी प्रेसीडेंट (सीयूपीटी) ने विदेश से आने वाले छात्रों के थाईलैंड में ज्यादा दिनों तक रुकने के लिए वीजा नियमों में बदलाव पर जोर दिया था। वर्तमान में विदेशी छात्रों व शिक्षकों को थाईलैंड में रुकने के लिए हर तीन महीनें में वीजा का नवीकरण करना होता है।
 
द नेशन  में प्रकाशित खबर के अनुसार सीयूपीटी इसके लिए विदेश मंत्रालय को पत्र लिखने की तैयारी कर रहा है। इसके साथ ही समूह नेशनल पुलिस ऑफिस व आप्रवासी ब्यूरो के समाने भी इस मुद्दे को उठाया था लेकिन पुलिस प्रशासन उनके प्रस्ताव से सहमत नहीं हुआ। सीयूपीटी के अध्यक्ष सोमकिड लर्टपाइथून के अनुसार यूनिवर्सिटीज किसी भी विदेशी छात्र व शिक्षक को नियुक्त करने से पहले उनकी शैक्षणिक योग्यता की बकायदा स्टडी करती हैं। सरकार को चाहिए कि वो यूनिवर्सिटीज पर भरोसा करे तथा  वीजा नियमों में बदलाव के कदम उठाए।
 
इसके अलावा सीयूपीटी विदेशी छात्रों को दिए जाने वाले वेतन में भी इजाफा करने का प्रास्ताव तैयार कर रहा है ताकि उच्च शिक्षित शिक्षकों को आकर्षित किया जा सके। वर्तमान में जो वेतन तय है वो 1999 के अनुसार है जो कि वर्तमान के हिसाब से काफी कम है। इस संबंध में सीयूपीटी ने सभी यूनिवर्सिटीज को निर्देश जारी कर दिए हैं।
1
Back to top