इंजीनियरिंग छात्र सीख रहे आकाश टेबलेट के एंड्रोइड एप्लीकेशन की प्रोग्रामिंग

भोपाल। आकाश टेबलेट इंजीनियरिंग छात्रों में धीरे-धीरे लोकप्रिय होता जा रहा है। टेबलेट की प्रोग्रामिंग सीखने के लिए छात्र विशेष तौर पर रूचि दिखा रहे हैं।
 
आकाश टेबलेट के एंड्रोइड एप्लीकेशन कीप्रोग्रामिंग सिखाने के लिए शनिवार 23 फ़रवरी 2013 से शुरू हुई ऑनलाइन कार्यशाला में  देश के 228 इंजीनियरिंग कॉलेजों के करीब 28461 छात्र हिस्सा ले रहे हैं। इनमें  मध्यप्रदेश के 2049 छात्र शामिल हैं। छात्रों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सीधे आईआईटी मुंबई के प्रोफ़ेसर द्वारा आकाश टेबलेट के एंड्रोइड एप्लीकेशन की प्रोग्रामिंग ऑनलाइन सिखाई जा रही है।
 
आईईएस कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी भोपाल के संचालक बीएस यादव ने बताया कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय भारत सरकार की महत्वकांक्षी योजना नेशनल मिशन ऑन एजुकेशन के तहत इस कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। देश भर में पहली बार अपनी तरह की इस कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। कार्यशाला में छात्रों को आकाश टेबलेट के एंड्रोइड एप्लीकेशन की प्रोग्रामिंग के तहत एंड्रोइड बिल्डिंग ब्लॉक्स, लेआउट व यूआई कंट्रोल,एंड्रोइड एप्लीकेशन रिसोर्सेस, डाटा स्टोरेज, वेब एप्लीकेशन डेवलपमेंट आदि सिखाया जा रहा है।
 
इस कार्यशाला के लिए भोपाल में राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (आरजीपीवी), मौलाना आजाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (मेनिट), आईईएस कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी, ओरियंटल कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी, एनआरआई इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, बंसल इंस्टिट्यूट ऑफ रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी, ट्रूबा कॉलेज ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी तथा सागर इंस्टिट्यूट ऑफ रिसर्च एंड टेक्नोलॉजी-एक्सलेंस को सेंटर बनाया गया है। यह कार्यशाला  23 व 24 फरवरी के अलावा 2 व 3 मार्च 2013 को भी आयोजित की जाएगी।

इससे पहले इंजीनियरिंग कॉलेजों के शिक्षकों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से आकाश टेबलेट की तकनीक सिखाई गई थी। आने वाले समय में यह शिक्षक अपने छात्रों को पढ़ाने के लिए आकाश टेबलेट का उपयोग करेंगे। इसके लिए बकायदा इन शिक्षकों को मुफ्त में आकाश टेबलेट दिया गया है। इसका पहला उद्देश्य क्लासरूम में टेबलेट का उपयोग बढ़ाना तथा दूसरा टेबलेट के माध्यम से शोध व अनुसंधान को प्रोत्साहित करना है।
 
 बीएस यादव के अनुसार मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय ने इंफॉरमेशन एंड कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी (आईसीटी) के माध्यम से चलाए जाने वाले राष्ट्रीय शिक्षा मिशन के तहत पढ़ाई को रोचक व हाईटेक बनाने की योजना शुरू की है। इसके तहत देश भर के 290 इंजीनियरिंग कॉलेजों को चुना गया है। इसके लिए बकायदा एक लाख शिक्षकों को आकाश टेबलेट मुफ्त में दिए गए हैं।
1
Back to top