मप्र की सभी यूनिवर्सिटी के नोडल सेंटर जिला स्तर पर खुलेंगे

 भोपाल।  मध्य प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों के नोडल सेंटर जिला स्तर पर खुलेंगे। कॉलेजों के स्टूडेंट्स को अपनी समस्या लेकर विश्वविद्यालय नही आना होगा। नोडल सेंटर पर ही उनकी समयाओं का समाधान हो सकेगा।

उच्च शिक्षा विभाग ने सभी विश्वविद्यालयों को अपने क्षेत्र के सभी जिले में 30 जून तक नोडल सेंटर स्थापित करने के निर्देश दिए हैं। उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने मंगलवार को विश्वविद्यालयों की समीक्षा के दौरान कहा की सेंटर में इतनी सुविधाएँ हों कि स्टूडेंट्स को विश्वविद्यालय नहीं आना पड़े।

उन्होंने विश्वविद्यालयों को मीटिंग करने और सर्कुलर निकालने में समय व्यर्थ करने की बजाय ठोस काम करने की सलाह दी। साथ ही विश्वविद्यालयों में रिक्त पद शीघ्र भरने और पदों का युक्ति-युक्तकरण करने के निर्देश दिये। 

यह सुविधा बरकतउल्लाह यूनिवर्सिटी भोपाल, देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी इंदौर, जीवाजी  यूनिवर्सिटी ग्वालियर, विक्रम  यूनिवर्सिटी उज्जैन, रानी दुर्गावती  यूनिवर्सिटी जबलपुर और एपीएस  यूनिवर्सिटी रीवा के अंतर्गत आने वाले सभी जिला स्तर पर उपलब्ध रहेगी 

सीसीटीवी होने पर ही बनेंगे परीक्षा केन्द्र

उच्च शिक्षा मंत्री ने उन महाविद्यालयों को परीक्षा केन्द्र नहीं बनाने को कहा जिनके क्लास-रूम में सीसीटीवी केमरे नहीं लगवाये गये हैं। उन्होंने कहा कि जिन कॉलेजों में नियमित कक्षाएँ नहीं लगती हैं, उनकी संबद्धता समाप्त करें और सेवानिवृत्ति पर कर्मचारियों के सभी क्लेम उसी दिन समारोहपूर्वक दें।

वहीं उच्च एवं स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री दीपक जोशी ने कहा कि मार्क-शीट को ऑनलाइन सुधारने के लिये जरूरी कदम उठायें। बैठक में प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा केके सिंह, विश्वविद्यालयों के कुलपति-कुलसचिव एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 
1 2 3
Back to top