आरजीपीवी का छह विदेशी यूनिवर्सिटी के साथ हुआ करार

भोपाल। राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (आरजीपीवी)  के छात्र रूस, थाईलैंड व कजाकिस्तान के विश्वविद्यालयों में शोध कर सकेंगे। आरजीपीवी ने इंफॉर्मेशन सिक्यूरिटी, मोबाइल नेटवर्क व क्लाउड कंप्यूटिंग क्षेत्र में शोध व अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए तूरान यूनिवर्सिटी कजाकिस्तान, यूराल स्टेट यूनिवर्सिटी ऑफ इकनॉमिक्स रूस, सारातोव स्टेट टेक्निकल यूनिवर्सिटी रूस, सारातोव स्टेट सोशियो इकनॉमिक्स यूनिवर्सिटी रूस, नोवोसिबिस्र्क स्टेट यूनिवर्सिटी रूस व महासाराखाम यूनिवर्सिटी थाईलैंड के साथ करार किया है।

आरजीपीवी कुलपति प्रो. पीयूष त्रिवेदी का कहना है कि  इन करार से परस्पर अभिरुचि के विभिन्न विषयों में शोध व अनुसंधान के लिए वातावरण तैयार करने में मदद मिलेगी। साथ ही आने वाले समय में विवि की इस पहल का लाभ तकनीकी शिक्षा में गुणवत्ता लाने तथा शोध व अनुसंधान की ओर शिक्षकों व छात्रों का रुझान बढ़ाने में मिलेगा।

वहीं थाईलैंड सरकार के साइबर सिक्यूरिटी कंसल्टेंट डॉ. सोमनुक पुआंगप्रोनपिटाग का मानना है कि  इस तरह के करार से दोनों विश्वविद्यालयों को नई बौद्धिक संपदा विकसित करने के अवसर मिलेंगे। उन्होंने आरजीपीवी व महासाराखाम यूनिवर्सिटी थाईलैंड के छात्रों व शिक्षकों के मैनेजमेंट क्षेत्र में भी मिलकर काम करने की संभावना जताई।

आरजीपीवी के स्कूल ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी के प्रोफेसर डॉ. संजीव शर्माके अनुसार  इन करारों के तहत शोध व अनुसंधान के लिए छात्र व फैकल्टी का चयन का निर्णय अगली बैठकों में होगा।
1 2 3
Back to top