आईआईटी के लिए सामान होगा कक्षा बारहवीं का सिलेबस

भोपाल। देश के सभी आईआईटी, एनआईटी, आईआईआईटी व अनुदान प्राप्त केंद्रीय संस्थानों में प्रवेश के लिए होने वाली संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) में अंकों को लेकर आ रही तकनीकी परेशानी को देखते हुए देश के सभी शिक्षा मण्डलों का सिलेबस एक जैसा करने की तैयारी शुरू हो गई है। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा मण्डल (सीबीएसई) और राज्यों के शिक्षा मण्डलों का सिलेबस एक सा होगा जो संभवत: वर्ष 2014 से लागू हो जाएगा।
इसकी वजह आईआईटी में प्रवेश के लिए सभी शिक्षा मण्डलों के विद्यार्थियों का टॉप 20 प्रतिशत में आना अनिवार्य किया जाना है। जानकारी के मुताबिक आईआईटी काउंसिल ने कक्षा 11 वीं व 12 वीं में पढ़ाए जाने वाले गणित व विज्ञान विषयों का सिलेबस एक जैसा करने का प्रस्ताव दिया है। सिलेबस एक करने की जिम्मेदारी काउंसिल ऑफ बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (कोबसे) को सौंपी गई है। कोबसे ने इस पर काम करना शुरू भी कर दिया है। इसके लिए कोबसे ने असम, महाराष्ट्र, बिहार, केरल व राजस्थान के शिक्षा बोर्ड को मिलाकर एक कमेटी बनायी जो इस पर काम कर रही है। साथ ही सीबीएसई को इस काम में सहयोग करने के निर्देश दिए गए हैं। जानकारों का कहना है कि जब से आईआईटी, एनआईटी, आईआईआईटी में प्रवेश के लिए कॉमन प्रवेश परीक्षा की अधिसूचना जारी की गई है तब से ही इसके लिए तय नियमों पर सवाल खड़े हो रहे हैं। नियम के अनुसार आईआईटी से पहले एनआईटी व आईआईआईटी के लिए जेईई (मेन) नाम से संयुक्त प्रवेश परीक्षा होगी। इसमें टॉप डेढ़ लाख परीक्षार्थियों को ही आईआईटी के लिए होने वाली जेईई (एडवांस) में शामिल होने की पात्रता होगी। इन डेढ़ लाख परीक्षार्थियों में से भी आईआईटी के लिए उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी जो माध्यमिक शिक्षा मण्डलों द्वारा आयोजित कक्षा 12 वीं की परीक्षा में टॉप 20 प्रतिशत छात्रों में जगह बना पाएंगे। सबसे ज्यादा सवाल इसी नियम पर उठाए जा रहे हैं। बीएस यादव सचिव,  एसोसिएशन ऑफ प्रोफेशनल एंड टेक्निकल इंस्टीट्यूट मप्र का कहना है कि आईआईटी में प्रवेश के लिए अंकों को लेकर काफी असमंजस की स्थिति बनी हुई है। इसके लिए सिलेबस में एकरूपता लाने के साथ ही डिफिकल्ट लेवल मार्किंग लागू करना जरूरी हो गया है। संतोष मिश्रा, सचिव मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मण्डल  का कहना है कि 'सीबीएससी सहित सभी राज्यों के शिक्षा मण्डलों का सिलेबस एक करने की तैयारी शुरू हो चुकी है। एक तरह से यह जरूरी भी था। सभी राज्यों के शिक्षा बोर्ड के सिलेबस में काफी असमानता है।
 
  • आईआईटी के लिए सामान होगा कक्षा बारहवीं का सिलेबस

    भोपाल। देश के सभी आईआईटी, एनआईटी, आईआईआईटी व अनुदान प्राप्त केंद्रीय संस्थानों में प्रवेश के लिए होने वाली संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) में अंकों को लेकर आ रही तकनीकी परेशानी को देखते हुए देश के सभी शिक्षा मण्डलों का सिलेबस एक जैसा करने की तैयारी शुरू हो गई है।
     
    Read more »
1
Back to top