">

एनवीईक्यूएफ योजना के लिए 148 संस्थानों को मिली मान्यता

नई दिल्ली। मानव संसाधन विकास मंत्रालय भारत सरकार की नेशनल वोकेशनल एजुकेशन क्वालीफिकेशन फ्रेमवर्क (एनवीईक्यूएफ) योजना के तहत देश के 148 संस्थानों को सत्र 2013-14 के लिए मान्यता मिली है।

इनमें अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) के अंतर्गत आने वाले संस्थानों की संख्या 128, अन्य संस्थानों की 1 तथा स्किल नॉलेज प्रोवाइडर (एसकेपी) के तहत आने वाले संस्थानों की संख्या 19  है।
एनवीईक्यूएफ योजना के लिए एआईसीटीई व एसकेपी के तहत सबसे ज्यादा मान्यता मध्यप्रदेश के संस्थानों को मिली है। इनकी संख्या 26 के आसपास है। जबकि हरियाणा के 16 व उत्तर प्रदेश के 17 संस्थानों को मान्यता मिली है।

एआईसीटीई के अंतर्गत आने वाले संस्थानों में एनवीईक्यूएफ योजना के लिए मध्यप्रदेश के 23, हरियाणा के 16, उत्तरप्रदेश के 15, तमिल नाडू के 10, महाराष्ट्र के 19, पंजाब के 8, राजस्थान के 7, ओडिशा के 6, छत्तीसगढ़ के 6, आंधप्रप्रदेश के 6, कर्नाटक के 4, गुजरात के 3, हिमाचल प्रदेश के 2, पश्चिम बंगाल, जम्मू-कश्मीर तथा केरल के 1-1 संस्थान को मान्यता मिली है।

जबकि स्किल नॉलेज प्रोवाइडर (एसकेपी) के तहत तमिल नाडू व महाराष्ट्र के 4-4, मध्यप्रदेश व गुजरात के 3-3, उत्तर प्रदेश, छत्तीगढ़, कर्नाटक, ओडिशा व राजस्थान के 1-1 संस्थान को मान्यता मिली है। इसी तरह अन्य संस्थानों में एनवीईक्यूएफ योजना के लिए उत्तरप्रदेश के ही केवल 1 संस्थान को मान्यता दी गई है।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय की इस महत्वकांक्षी योजना एनवीईक्यूएफ के तहत छात्रों को कक्षा 9 वीं से ही वोकेशनल पाठ्यक्रमों की पढ़ाई करायी जाएगी। इसके लिए अलग-अलग  लेवल बनाए गए हैं। पहला व दूसरा लेवल कक्षा 9 वीं व 10 वीं के समकक्ष होगा।

जबकि तीसरा व चौथा लेवल कक्षा 11 वीं व 12 वीं के समकक्ष, पांचवां, छठवां व सातवां लेवल पॉलीटेक्निक व बैचलर डिग्री के प्रथम, द्वितीय व तृतीय वर्ष के समकक्ष होगा। यह योजना वर्ष 2011 में लांच की गई थी।  

1 2
Back to top