सड़क किनारे रहने वाले बच्चों को अस्थमा ज्यादा

लंदन। व्यस्त सड़कों के किनारे रहने वाले लोगों को अस्थमा ज्यादा होता है। हाल ही में यूरोप के दस शहरों में हुए अध्ययन में यह बात सामने आयी है कि व्यस्त सड़कों के किनारे ट्रेफिक के कारण होने वाले वायु प्रदूषण से करीब 14 फीसदी लोगों को अस्थमा हो जाता है।

जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार धूम्रपान से बच्चों में होने वाले अस्थमा की शिकायत 4 से 18 प्रतिशत के बीच है। यह खुलाला यूरोपियन रेस्पीरेटरी जर्नल में प्रकाशित शो
धपत्र में किया गया है।

उल्लेखनीय है कि यूरोपियन कमीशन ने वर्ष 2013 को 'ईयर ऑफ एयर" घोषित किया हुआ है। अभी तक यातायात से होने वाले प्रदूषण को केवल शुरूआती अस्थमा से जोड़कर देखा जाता था। लेकिन ताजा अध्ययन के अनुसार यह क्रोनिक अस्थमा के लिए भी जिम्मेदार है। इस अध्ययन के लिए शोधार्थियों ने नई विधि अपनायी थी।

इस अध्ययन के दौरान यूरोप के दस शहरों का चयन कर उनके यहां सड़कों के किनारे रहने वाले बच्चों की जांच की गई। जांच में यह बात सामाने आयी कि  सड़क किनारे रहने वाले 14 फीसदी बच्चे अस्थमा  से पीड़ित हैं। 
1
Back to top